सरकारी तंत्र के मुँह पर तमाचा, दर्द से तड़प रही प्रसूता ने खुले में दिया बच्चे को जन्म

23

राजस्थान के टोंक जिला मुख्यालय पर स्थित मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य अस्पताल उस समय हड़कंप मच गया जब एक प्रसूता को खुले में ही प्रसव हो गया,

घटना सामने आने के बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में प्रसूता को लेबर रूम ले जाया गया।

दरअसल देवली भाची गांव की रहने वाली भूरा को दोपहर में प्रसव पीड़ा हुई प्रसव पीड़ा होने के बाद उसके पति श्योजी ने 108 एंबुलेंस पर फोन करके मदद मांगी। जिस पर 108 एंबुलेंस उसे जनाना हॉस्पिटल में भर्ती करवाया वहां मौजूद डॉक्टर ज्ञानेंद्र बंसल ने भूरा को भर्ती किया। भूरा के पति श्योजी की माने तो उसकी पत्नी दोपहर से शाम तक दर्द से तड़पती रही बार-बार डॉक्टरों से गुहार लगाई लेकिन किसी ने उसकी एक नहीं सुनी ऐसे में जब उसकी पत्नी परेशान होकर अस्पताल से बाहर निकली तो उसके प्रसव पीड़ा होने लगी और खुले में ही उसने बच्चे को जन्म दिया। जैसे ही अस्पताल प्रशासन को खुले मैं प्रसव का पता चला वैसे ही कर्मचारियों व डॉक्टरों में हड़कंप मच गया मौके पर मौजूद डॉक्टरों ने उसको स्ट्रेचर पर लिटा कर अस्पताल में भर्ती किया। बाद में वहां मौजूद डॉक्टर ज्ञानेंद्र बंसल ने प्रसूता ने भूरा के पति श्योजी पर अस्पताल में हंगामा करने वह शराब पीकर आने का आरोप लगाते हुए वहां मौजूद पुलिसकर्मियों को लिखित में शिकायत दी जिसके बाद वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने प्रसूता के पति से पूछताछ शुरू की ।