राजस्थान में चुनाव की घोषणा के बाद बीजेपी-कांग्रेस में टिकट को लेकर मचा घमासान

3

राजस्थान में विधानसभा चुनाव की तारीख के ऐलान के बाद राजस्थान में भाजपा और कांग्रेस में गहमागहमी शुरू हो गई है. दोनों दलों में जदोजहद ज्यादा से ज्यादा टिकट अपने-अपने खेमे के लोगों को दिलाने की है. हालात भाजपा से ज्यादा खराब कांग्रेस में नजर आयेंगे | क्योंकि कांग्रेस में प्रदेश स्तर के नेताओं में गुटबाजी अधिक है |

रिपोर्ट- तेज़ आवाज़ डेस्क

राहुल गांधी ही फाइनल करेंगे टिकट 

जयपुर में कांग्रेस की चुनाव प्रबंधन समिति की मीटिंग हुई जिसमें हिस्सा लेने प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट, स्क्रीनिंग कमेटी की प्रमुख कुमारी शैलजा और कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत पहुंचे. बैठक के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने साफ किया कि टिकट योग्य लोगों को मिलेगा और जरूरत पड़ेगी तो व्यक्तिगत रूप से टिकटार्थी को बुलाकर उनसे बात की जाएगी. उसके बाद ही टिकट तय होगा. मुख्यमंत्री के सवाल पर गहलोत ने कहा कि विधायक तय करेंगे कि सीएम कौन बनेगा और इसपर अंतिम आलाकमान का होगा.

बैठक के बाद प्रेस वार्ता करते हुए स्क्रीनिंग कमेटी के प्रमुख कुमारी शैलजा ने कहा कि इलेक्शन कमेटी की मीटिंग में टिकट बंटवारा पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी तय करेंगे.

भाजपा की टिकटें वसुंधरा राजे तय करना चाहती हैं

कांग्रेस के जैसे ही हालात बीजेपी के अंदर भी है |  बीजेपी के अंदर यह घमासान चल रहा है कि टिकट बंटवारा इस बार मुख्यमंत्री के हाथ में होगा या फिर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उम्मीदवार तय करेंगे.

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कैंपेन कमेटी के मीटिंग में इशारों-इशारों में कह दिया टिकट तो वही बांटेंगी, वरना बीजेपी राजस्थान में चुनाव हार सकती है. जबकि अमित शाह का खेमा ये समझाने में लगा है कि इस बार टिकट का बंटवारा केंद्रीय स्तर पर होना चाहिए ताकि ज्यादा से ज्यादा विधायकों का टिकट काटा जा सके. ऐसा माना जा रहा है कि मौजूदा विधायकों की टिकट कटने पर जनता की नाराजगी कम होगी.